निगाहो मे मन्ज़िल  (Motivational Shayari)

निगाहो मे मन्ज़िल थी
गिरे और गिरकर सम्भलते रहे
हवाओ ने बहुत कोशिश की
मगर चिराग आंधियो मे भी जलते रहे
Posted By : Puneet Sharma
Posted On : Oct 19, 2007
Views : 7728
Previous Shayari : ज़ुल्फ
Next Shayari : सम्भल जाते है लोग

Sher - O - Shayari by category

» Bewafai » Friendship » Funny
» Hate » Love » Miscellaneous
» Motivational » Nature » Ocassion Based
» Patriotic » Relationships » Romantic
» Sad » SMS » Tareef
» Zindagi