ज़ख्म देने का अंदाज़ (Sad Shayari)

ज़ख्म देने का अंदाज़ कुछ ऐसा है
ज़ख्म देकर पुछते है अब हाल कैसा है
ज़हर देकर कहते है पीना ही होगा
जब पी गये ज़हर तो कहते है अब जीना भी होगा
Posted By : Lakha
Posted On : Mar 14, 2009
Views : 82822
Previous Shayari : याद तो हर कोई करेगा
Next Shayari : तन्हाई क्यो है?

Sher - O - Shayari by category

» Bewafai » Friendship » Funny
» Hate » Love » Miscellaneous
» Motivational » Nature » Ocassion Based
» Patriotic » Relationships » Romantic
» Sad » SMS » Tareef
» Zindagi