खुदी (Zindagi Shayari)

खुदी मे डूब जा गाफिल, ये सत्र-ए- ज़िन्दगानी है निकल कर हल्क़ा-ए- शाम-ओ-शहर से जाविदान हो जा
Posted By : Ahtesh
Posted On : Oct 07, 2005
Views : 4321
Previous Shayari : ज़िन्दगी नीमत है खुदा की
Next Shayari : ज़िन्दगी

Sher - O - Shayari by category

» Bewafai » Friendship » Funny
» Hate » Love » Miscellaneous
» Motivational » Nature » Ocassion Based
» Patriotic » Relationships » Romantic
» Sad » SMS » Tareef
» Zindagi